RBI rejects proposed merger of Indiabulls Housing Fin with Lakshmi Vilas Bank | इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस और लक्ष्मी विलास बैंक के विलय का प्रस्ताव नामंजूर

0
16


  • लक्ष्मी विलास बैंक ने 7 मई को आरबीआई की मंजूरी के लिए आवेदन दिया था
  • आरबीआई ने पिछले महीने लक्ष्मी विलास बैंक को पीसीए में डाल दिया

Dainik Bhaskar

Oct 09, 2019, 09:24 PM IST

मुंबई. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस के लक्ष्मी विलास बैंक (एलवीबी) में विलय का प्रस्ताव बुधवार को नामंजूर कर दिया। एलवीबी ने रेग्युलेटरी फाइलिंग में ये जानकारी दी। बैंक के बोर्ड ने अप्रैल में मर्जर का प्रस्ताव मंजूर किया था। 7 मई को आरबीआई से मंजूरी मांगी थी।

 

एनपीए ज्यादा होने, जोखिम प्रबंधन के लिए पर्याप्त नकदी नहीं होने जैसी वजहों से एलवीबी को आरबीआई ने पिछले महीने प्रॉम्प्ट करेक्टिव एक्शन (पीसीए) में डाल दिया था। इस फ्रेमवर्क में शामिल बैंक नए कर्ज नहीं दे सकते और नई ब्रांच नहीं खोल सकते।

 

एलवीबी के निदेशकों पर गबन के आरोप
धोखाधड़ी के आरोप में एलवीबी के निदेशकों के खिलाफ दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा भी जांच कर रही है। बैंक अधिकारियों पर 790 करोड़ रुपए के गबन के आरोप हैं। वित्तीय सेवा कंपनी रेलिगेयर फिनवेस्ट की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने पिछले महीने केस दर्ज किया था। रेलिगेयर ने कहा था कि उसने 790 करोड़ रुपए की एफडी की थी, जिसमें से हेरा-फेरी की गई है।

 

बैंक का शेयर 5% लुढ़का
लक्ष्मी विलास बैंक शेयर बाजार में लिस्टेड हैं। बैंक का शेयर बुधवार को बीएसई पर 4.93% गिरावट के साथ 27 रुपए पर बंद हुआ। बैंक का मार्केट कैप 909.13 करोड़ रुपए है। अप्रैल में 2,967.10 करोड़ था।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here