Health News In Hindi : Obesity is not only a sign of disease, lean people can also have many diseases | केवल मोटापा ही बीमारी की निशानी नहीं होता, दुबले लोगों को भी हो सकती है कई बीमारियां

0
13


Dainik Bhaskar

Oct 06, 2019, 03:47 PM IST

हेल्थ डेस्क. आमतौर पर लोग इस एक तथ्य कि ‘मोटापा ही बीमारियों की जड़ है’, को अपने दिमाग में बैठा रखते हैं और इस कारण बाकी चीजों को नजरअंदाज करते जाते हैं। लेकिन सच यह है कि केवल मोटापा ही बीमारियों की एकमात्र जड़ नहीं है। दुबले-पतले लोगों को भी लाइफस्टाइल से जुड़ी कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं। दरअसल, इस धारणा के चलते कि दुबले लोगों में बीमारियां कम होती हैं, औसत वजन वाले लोग अपने स्वास्थ्य के प्रति लापरवाह हो जाते हैं। यहां यह समझना जरूरी है कि दुबले-पतले होने के कई निगेटिव कारण भी हो सकते हैं। अनहेल्दी खाना खाने वाले और शारीरिक कसरत न करने वाले लोग भी ऊपर से स्लिम और हेल्दी ही दिखते हैं। दुबला होने की वजह ईटिंग डिसऑर्डर, धूम्रपान की लत आदि भी हो सकती है। यहां डाइट एंड वेलनेस एक्सपर्ट डॉ. शिखा शर्मा वे चार वजह बता रही हैं जिनसे दुबले लोगों को भी स्वास्थ्य के प्रति चिंतित होना चाहिए :

डायबिटीज की आशंका

  1. अगर आप खाने को लेकर कोताही बरतते हैं तो मुमकिन है कि आपका वजन ज्यादा ना हो। हेल्दी फूड की जगह ज्यादा फास्ट फूड खाने से शरीर को पोषण नहीं मिलता। ऐसे कई लोग दुबले बने रहते हैं। लेकिन अगर वजन इस वजह से सामान्य है तो फिर ऐसे दुबले लोगों में भी डायबिटीज का खतरा हो सकता है। ऐसे लोगों को लगता है कि वे दुबले होने के कारण स्वस्थ हैं, इसलिए सामान्य हेल्थ चैकअप को भी नजरअंदाज कर जाते हैं, जो उनकी स्वास्थ्य समस्या को बढ़ा देता है।
     

  2. कोलेस्ट्रॉल का खतरा

    यह बात सच है कि मोटापे से ग्रस्त लोगों में खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) ज्यादा होने की आशंका रहती है, लेकिन दुबले लोगों में भी कोलेस्ट्रॉल का स्तर अधिक हो सकता है। हाई कोलेस्ट्रॉल के कुछेक मामले परिवार से जुड़े रहते हैं, मतलब यह जेनेटिक भी हो सकता है। ऐसे में यहां यह बात मायने नहीं रखती कि आप दुबले-पतले हैं। इसलिए अपने खान-पान का ध्यान रखें और समय-समय पर लिपिड प्रोफाइल जैसी जांचें करवाते रहें।

  3. कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता

    इम्युनिटी यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता वजन से तय नहीं होती। जिस व्यक्ति का इम्युनिटी सिस्टम जितना मजबूत होगा, वह रोगों से उतनी आसानी से लड़ पाएगा। मजबूत प्रतिरक्षा तंत्र के चलते संक्रमण से लड़ने में भी मदद मिलती है। दुबला-पतला व्यक्ति अगर हेल्दी डाइट नहीं लेता है, तो इससे भी उसकी इम्युनिटी प्रभावित हो सकती है।

  4. खून की कमी

    अगर आप ज्यादा ही दुबले-पतले हैं, शरीर में लगातार थकान बनी रहती है, हार्टबीट असामान्य रहती है, बेचैनी, श्वास उखड़ी रहती है तो हो सकता है आप एनीमिया से ग्रस्त हों। शरीर में आयरन, विटामिन बी12 के अलावा पोषण आहार की कमी के कारण एनीमिया होता है। इसलिए ऐसे दुबले-पतले लोगों को ज्यादा खुश होने की नहीं, बल्कि हीमोग्लोबिन के स्तर और डाइट का खास ख्याल रखने की जरूरत है।

  5. बॉडी फैट भी जरूरी है, लेकिन लिमिट में

    फैट के चलते ही शरीर में एस्ट्रोजन हॉर्मोन का निर्माण होता है। हडि्डयों की मजबूती के लिए संतुलित मात्रा में एस्ट्रोजन का होना जरूरी है। इसलिए सारे तरह के फैट या ऑइली चीजें बंद कर देना सही नहीं है। अपनी डाइट में गुड फैट शामिल करें। ऑलिव आयल, तिल का तेल, नट्स (बादाम, अखरोट, मूंगफली आदि), अलसी, पीनट बटर, मछली (सॉलमन, टूना) आदि गुड फैट के अच्छे स्रोत है। हां, डीप फ्राइड चीजें जरूर अवॉइड करें। 


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here